यूं तो डोडिताल आसीगंगा का उद्गम स्थल है. आसीगंगा डोडिताल से निकलने के बाद भागीरथी नदी में जाकर मिलती है. लेकिन डोडिताल ट्रैकिंग लवर्स, प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी जन्नत से कम नहीं.

उत्तरकाशी में स्थित है डोडिताल

समुद्र तल से करीब 3 हजार 310 किमी ऊंचाई पर स्थित डोडिताल झील दुर्लभ प्रजाति की मछलियों के लिए विख्यात है. झील में दुर्लभ हिमालयी ब्राउन ट्राउन मछलियां पाई जाती हैं. झील के आस-पास स्थित बुग्याल पर्यटकों को आकर्षित करते हैं.

पश्चिम बंगाल: कोलकाता आएं, तो यहां घूमने जरूर जाएं

डोडिताल देश की सबसे ऊंचाई पर स्थित झीलों में से एक है. यहां तक पहुंचने के लिए उत्तराकाशी से संगमचट्टी का सफर तय करना होगा. जहां से डोडिताल के लिए ट्रैकिंग शुरु होती है. ये ट्रेकिंग करीब 24 किमी. लंबी है.  बीच में अगोरा और बेबरा गांव में रात में ठहरने की व्यवस्था है. अगोरा की सममचट्टी से दूरी 6 किमी है. और बेबरा गांव संगमचट्टी से 8 किमी. दूर है.

उत्तरकाशी से 39 किमी. की दूरी

उत्तराकाशी शहर से डोडिताल की दूरी करीब 39 किमी है. यहां तक पहुंचने के लिए करीब 24 किमी. की पैदल यात्रा करनी पड़ती है. जो कि दुर्गम रास्तों से होकर गुजरती है.

डोडिताल से जुड़ी पौराणिक मान्यता

डोडिताल से कई कहानियां जुड़ी हुई हैं. कई पौराणिक मान्यताएं, डोडिताल को भगवान गणेश की जन्म भूमि कहा जाता है. इसीलिए झील को गणेश ताल या फिर गणेश झील भी कहा जाता है.

कैसे पहुंचे ?

हवाई सेवा

अगर आप फ्लाइट के यात्रा कर रहे हैं. तो आप के लिए जानना जरूरी है. कि उत्तरकाशी के सबसे नजदीक जॉलीग्रांट एयरपोर्ट हैं. जो कि उत्तरकाशी से 200 किमी. से ज्यादा दूर है. आप जॉली ग्रांट एयरपोर्ट पहुंचकर उत्तरकाशी के लिए कैब या फिर बस ले सकते हैं.

रेल सेवा

उत्तरकाशी तक रेल सेवा उपलब्ध नहीं है. आप ट्रेन के जरिए हरिद्वार, ऋषिकेश, देहरादून पहुंच  सकते हैं. यहां से उत्तराकाशी और फिर उत्तरकाशी से डोडिताल का सफर तय कर सकते हैं.

सड़क मार्ग

उत्तरकाशी के लिए राज्य परिहवहन निगम की बसें उपलब्ध हैं. आप अपनी कार या फिर कैब के जरिए उत्तरकाशी पहुंच सकते हैं.

Best Adventures place in north india, visit and feel adventure

11 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here