यूं तो सांची को हमेशा से बौद्ध धर्म से जोड़ देखा जाता है. लेकिन सांची सिर्फ बौद्ध धर्म से जुड़ा हुआ स्थल नहीं है. यहां इतिहास से जुड़े ऐसे कई साक्ष्य मौजूद है. जो भारतीय सभ्यता और संस्कृति का बखान करते हैं.

इतिहासकारों के मुताबिक मौर्य और गुप्त काल में सांची की अपनी सत्ता और महत्ता थी. जो कि वक्त के साथ बदलती गई. माना जाता है, व्यापारिक रास्ते में पड़ने के कारण ही सांची में स्तूप का निर्माण कराया गया. हालांकि इसके पुष्टि कम ही इतिहासकार करते हैं.

स्तूपो का शहर सांची

सांची मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में स्थित है और विदिशा शहर से 10 किमी. दूर स्थित है. आपकों जानकर हैरानी होगी कि सांची में छोटे- बड़े कुल 40 स्तूप है. जिनका निर्माण अलग-अलग समय में किया गया है. 1989 में सांची को यूनेस्कों ने विश्व विरासत का दर्जा दिया था. ऐसा माना जाता है, कि स्तूपो का निर्माण कई दशको तक चलता रहा. सांची में सनातन धर्म से कई प्राचीन मंदिर भी मौजूद हैं.

सम्राट अशोक ने कराया था निर्माण

इतिहास के मुताबिक मौर्यकाल में विदिशा एक समृद्ध और व्यापारिक नगर था. जिसके करीब स्थित सांची बौद्ध भिक्षुओं के अनुकूल थी. जिसे देखते हुए सम्राट अशोक ने सांची में स्तूप का निर्माण कराया. सांची में कई स्तूप है, जिनमें से एक स्तूप सबसे बड़ा है.

उल्टे कटोरे के आकार का है स्तूप

स्तूप का आकार उल्टे कटोरे की तरह है. जिसके शिखर पर तीन छत्र लगे हुए है. ये शिखर महानता का दर्शाते हैं. इतिहासकारों की माने तो स्तूप के निर्माण में अन्य कई राजवंशों को भी योगदान है. जैसे कि स्तूप की रेलिंग शुंग वंश के राजाओं ने कराई. स्तूप के चार द्वारों को निर्माण सातवाहन राजाओं ने कराया.

जैन धर्म से भी जुड़ा है सांची का इतिहास

सांची में कई स्तूप ऐसे हैं. जो कि जीर्ण- शीर्ण अवस्था में हैं. कई स्तूप के सिर्फ पिलर बाकी है. यहां जैन तीर्थंकर की मूर्ति भी स्थापित है. जो कि गुप्तकालीन बताई जाती है. सांची में मौजूद अशोक स्तम्भ अब लगभग खत्म हो चुका है.

आक्रमणकारियों ने सांची का पहुंचाया नुकसान

माना जाता है, देखरेख न होने से कई मंदिर और स्तूप नष्ट हो गए. इतिहासकारों के मुताबिक 13वीं से 17वीं शताब्दी के बीच आक्रमणकारियों ने कई स्तूपों को खंडहर में बदल दिया.

आसानी से कर सकते हैं स्तूपों का दीदार

अब सुबह 8 बजे से शाम के 5 बजे तक सांची में स्तूपो का दीदार कर सकते हैं. अगर आपकों इतिहास जानने के लिए गाइड की जरूरत है. तो वो यहां आसानी से उपलब्ध हैं.

सारनाथ के प्रमुख दर्शनीय स्थल, वर्षों के इतिहास को खुद में समेटे है ये शहर

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here