पंचमढ़ी में एक ओर प्राकृतिक नजारें हैं. तो दूसरी ओर आस्था को शिखर पर स्थापित करते भगवान शंकर के मंदिर.

मतलब पंचमढ़ी वो जगह है, जहां आप छुट्टियां मनाने के साथ तीर्थ यात्रा भी कर सकते हैं.

पंचमढ़ी में घूमने लायक

पंचमढ़ी समुद्रतल से 1,067 मीटर की ऊंचाई पर सतपुड़ा की पहाड़ियों के बीच स्थित है. जहां से दूर तक फैले हरे-भरे जंगलों को देखा जा सकता है. इन जंगलों में कई गुफाएं हैं. जिनका पौराणिक महत्व है. जहां कई तरह के शैलचित्र मौजूद हैं.

सतपुड़ा नेशनल पार्क

पंचमढ़ी के आस-पास दिखने वाले जंगल वन्य जीव संरक्षित क्षेत्र हैं. जिसे सतपुड़ा नेशनल पार्क के नाम से भी जाना जाता है. यहां बाघ, तेंदुआ, सांभर, चीतल, चिंकारा, भालू समेत कई वन्य जीवों से मुलाकात कर सकते हैं. सतपुड़ा नेशनल पार्क जंगली भैंसों के लिए प्रसिद्ध है.

वाटर फॉल्स

पंचमुढ़ी में कई झरने हैं. जो यहां की खूबसूरती में चार चांद लगा देते हैं. इनमें से बी फॉल्स, डचेज फॉल्स सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है. यहां सबसे ज्यादा पर्यटक आते हैं. हालांकि डचेज फॉल्स का रास्ता थोड़ा कठिनाई भरा है. यहां जाने के लिए करीब डेढ़ किलोमीटर तक पैदल चढ़ाई करनी पड़ती है.

पांडव गुफा

पंचमढ़ी की पहाड़ियों में कई गुफाएं हैं. जिनके बारे में मान्यता है. कि ये गुफाएं महाभारत कालीन हैं. कुछ लोग इन गुफाओं को बौद्ध धर्म से भी जोड़ते हैं.

भगवान भोलेनाथ का धाम

यहां भगवान शिवशंकर से जुड़े कई मंदिर हैं. सबसे प्रसिद्ध जटाशंकर महादेव, गुप्त महादेव मंदिर है. जिनके बारे में मान्यता है. कि राक्षस भस्मासुर से बचने के लिए भगवान शिवशंकर यहीं आकर छिपे थे.

धूपगढ़ चोटी

धूपगढ़ पंचमढ़ी की सबसे ऊंची चोटी है. यहां से आप नीचे जंगलों और पहाड़ियों के पीछे छिपते सूरज को कैमरे में कैद कर सकते हैं.

टूर गाइड

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से पंचमढ़ी की दूरी करीब 200 किमी. है. यहां से आप सड़क मार्ग से बस या फिर कैब के जरिए पंचमढ़ जा सकते हैं. अगर आप ट्रेन से सफर करना चाहते हैं. तो आप ट्रेन के जरिए पिपरिया रेलवे स्टेशन पहुंचकर बस या फिर कैब ले सकते हैं. पिपरिया रेलवे स्टेशन से पंचमढ़ी की दूरी करीब 50 किमी. है.

अगर आपका प्लान पंचमढ़ी में ठहरने का है, तो किसी तरह दिक्कत नहीं होगी. यहां कई होटल है. जो बेहतरीन सेवाएं देते हैं.

और पढ़ें: चित्रकूट के दर्शनीय स्थल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here