पेशवाई इतिहास का गवाह पुणे खूबसूरत नजारों से भरपूर है. पेशवाओं के वक्त की वास्तुकला से परिचय करना है. तो आपको पुणें की सैर जरूर करनी चाहिए. यहां उस दौर के कई महल, पैलेश और मंदिर है. जिन पर की गई नक्क्शी आपको हैरत में डाल देगी.

1

राजगढ़ किला

राजगढ़ किला सहयाद्री की पहाड़ियों पर ऊंचाई पर स्थित है. यहां तक पहुंचने के लिए आपकों लंबी चढ़ाई करनी पड़ेगी. राजगढ़ किले तक पहुंचने के रास्ते में हरी-भरी घाटियों और घुमावदार सीढ़ियों से होकर गुजरता है. अगर आप एडवेंचर के शौकीन है. तो बिल्कुल उपयुक्त जगह है. किले पर पहुंच कर नीचे घाटी नजारा बेहद शानदार दिखाई देता है. पुणे शहर से राजगढ़ किले की दूरी कोई 50 किमी. है.

2

शनिवार वाड़ा का निर्माण पेशवा बाजीराव ने कराया था. जिसके बारे में कई कहानियां प्रचलित है. कहा जाता है, कि यहां एक आत्मा का वास है. हालांकि इसमें कितना सच है. कोई नहीं जानता है. 18वीं शताब्दी में निर्मित शनिवार वाड़ा बेहतरीन वास्तुकला का नमूना है. शनिवार वाड़ा में स्थित कमल के आकार का फव्वारा और सुंदर बगीचा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है.

3

आगा खान पैलेस की पहचान देश की आजादी से जुड़ी है. किले का निर्माण सुल्तान आगा खान ने 19वीं शताब्दी में कराया था. महल के अंदर महात्मा गांधी से जुड़ी कई चीजें रखी गई हैं. दरअसल ब्रिटिश हुकुमत ने पैलेस का इस्तेमाल महात्मा गांधी और सरोजनी नायडू के लिए जेल की तरह किया था. आगा खान पैलेस विशाल बगीचे से घिरा हुआ है. जिसकी हरियाली आपकों मंत्रमुग्ध कर देगी. पुणे शहर से आगा खान पैलेस आसानी से पहुंचा जा सकता है.

4

अगर आप पुणे की यात्रा कर रहे हैं. और अकेले में कुछ वक्त बिताना चाहते हैं. तो बंड गार्डन में आपका स्वागत है. बड़े भू-भाग पर स्थित बंड गार्डन में आप सुबह के वक्त जॉगिंग भी कर सकते हैं.

5

संग्रहालय में 20 हजार से ज्यादा चित्र, मूर्तियों, आभूषण, वस्त्रों से संग्रहित किया गया है. जो अलग-अलग कालखंड के हैं. संग्रहालय के एक फ्लोर 18वीं और 19वीं शताब्दी के बर्तनों से भरा हुआ है. जबकि एक फ्लोर पर हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां, पांडुलिप और चित्र संग्रहित किए गए हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here