चेन्नई से करीब 150 किलोमीटर दूर, समुद्र से घिरा हुआ पांडिचेरी एक बेहद ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है. पांडिचेरी अपने खूबसूरत बीचों के लिए जाना जाता है.

फ्रेंच संस्कृति का छाप

ये शहर काफी समय तक एक फ्रेंच कॉलोनी रहा है. इसलिए यहां फ्रांसीसी संस्कृति की झलक हर ओर दिखाई पड़ती है. यहां की पुरानी बनी इमारतों पर फ्रेंच वास्तुकला की छाप साफ देखी जा सकती है.

पैराडाइज बीच

पांडिचेरी में स्थित अरविंदों आश्रम ठीक बीच पास है. तो पैराडाइज बीच की खूबसूरती शब्दों में बयां नहीं की जा सकती. खास बात ये जगह समुद्र से घिरी हुई है. इसलिए आपको यहां स्टीमर बोट से जाना पड़ेगा.  बीच का पानी बिल्कुल साफ है. यहां रात में रुकने की अनुमति नहीं है.

और पढ़ें: देश के खूबसूरत हिल स्टेशन

आकर्षण

वैसे तो यहां घूमने के कई स्थान है, लेकिन मुझे सबसे ज्यादा आकर्षित किया ऑरोविल ने. ये पांडिचेरी से करीब 30 किमी दूर जंगलों में बसा है. यहां तक जाने का सफर ही बेहद रोमांचक है. यहां पहुंचने पर एक अलग ही सुखद अनुभूति होती है.

ऑरोविल

यहां लगभग 150 देशों के लोग रहते है. प्रकृति के बीच हर समय रहने का एक अलग की आनंद है. इसलिए यदि आप कभी भी पांडिचेरी जाएं, तो ऑरोविल जाना न भूले. ऑरोविल बीच भी काफी अच्छा है.

महाबलिपुरम

पांडिचेरी के पास महाबलिपुरम स्थित है, जिसे प्राचीन काल में मामल्लपुरम कहा जाता था. इतिहास के मुताबिक महाबलिपुरम पर कभी पल्लव राजाओं का शासन हुआ करता था. यहां का शोर मंदिर तो वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल है. जिसका निर्माण 7वीं शताब्दी में किया गया था

महाबलिपुरम

इन मंदिरों को पत्थर काटकर तैयार किया गया है. इसके अलावा यहां पांडव रथ भी दर्शनीय स्थल है. यदि आप अपने इतिहास का जानना और समझना चाहते है, तो ये जगह आपको जरूर पसंद आएगी. और यदि आप सी-फूड खाने के शौकीन है. तो महाबलीपुरम आपको निराश नहीं करेगा

लज़ीज सी फूड और महाबलिपुरम के खूबसूरत दृश्य

यहां का सी-फूड बहुत ही स्वादिष्ट होता है. यदि आप पांडिचेरी जाएं तो महाबलीपुरम अवश्य जाएं. दिलचस्प बात ये दोनों ही पर्यटन स्थल  चेन्नई से ज्यादा दूर नहीं हैं. हालांकि अगर आप उत्तर भारत रहने वाले हैं. तो भाषा जरूर एक समस्या हो सकती है.

और पढ़ें: IRCTC के साथ कीजिए केरल का सफर

कैसे पहुंचे ?

सड़क मार्ग

पांडिचेरी से सबसे करीब चेन्नई है, जिसकी दूरी करीब 150 किमी. है. यहां से आप पांडिचेरी के लिए बस ले सकते हैं. इसके अलावा त्रिची, कोयम्बटूर, बैंगलोर और मदुरई से भी बस और कैब सेवा उपलब्ध है.

ट्रेन

पांडिचेरी का सबसे करीबी रेलवे स्टेशन विल्लुपुरम है. जिसकी दूरी करीब 35 किमी. है. यहां के लिए दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई जैसे शहरों के ट्रेन उपलब्ध हैं. विल्लुपुरम पहुंचने पर आप कैब या बस सेवा के जरिए पांडिचेरी की यात्रा कर सकते हैं.

हवाई सेवा

पांडिचेरी के लिए चेन्नई और बेंगलुरू से घरेलु सेवा उपलब्ध है. इसलिए अगर आप फ्लाइट के जरिए पांडिचेरी जाना चाहते हैं. तो आपकों चेन्नई या फिर बैंगलुरू आना होगा. यहां से पांडिचेरी की फ्लाइट ले सकते हैं.

और पढ़ें: ऊंटी के दर्शनीय स्थल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here