पक्षी प्रेमियों के लिए अच्छी खबर है. दुधवा टाइगर रिजर्व क्षेत्र में विलुप्ति की कगार पर पहुंच गए गिद्धों की संख्या में इस साल खासी बढ़ोतरी हुई. लखीमपुर के तराई वाले इलाकों में गिद्धों की आसानी से देखा जा सकता है.

बीते वर्षों से कम हो रही है संख्या

पिछले कुछ वर्षों में गिद्धों की संख्या में खासी कमी दिखाई दी है. जिसके बाद इस ओर कई कदम उठाए गए. दुधवा टाइगर रिजर्व क्षेत्र में गिद्धों को संरक्षित करने का प्रयास किया गया. जिसका असर अब दिख रहा है.

सेमल के पेड़ कटने से बढ़ी चिंता

हालांकि सेमल के पड़ने कटने से चिंता बढ़ी है. क्योंकि गिद्ध सेमल के पेड़ पर अपना आशियाना बनाना पसंद करते हैं. पिछले कुछ दिनों में सेमल के पेड़ों के तेजी से कटाई हुई है. जो कि चिंता का विषय है.

हालांकि दुधवा टाइगर रिजर्व क्षेत्र में ऊंचे पेड़ों की संख्या काफी ज्यादा है. जहां गिद्ध अपना आशियाना बना सकते हैं. और शायद यही वजह है. इस क्षेत्र में गिद्धों की संख्या बढ़ रही है. जो कि पक्षी प्रेमियों के लिए अच्छी खबर है.

और पढ़ें: 1 नवंबर से खुलेगा दुधवा नेशनल पार्क

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here