प्रकृति की गोद में बसा उत्तराखंड का खूससूरत हिल स्टेशन चोपता. यूं तो किसी पहचान का मोहताज नहीं, लेकिन अब चोपता के नाम नई पहचान जुड़ने जा रही है.

उत्तराखंड पर्यटन विभाग चोपता को कैंपिंग डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित करने की तैयारी शुरु कर दी है. इसके लिए एक प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है. सुविधाओं के विकास और निर्माण कार्यों की एक फेहरिस्त बनाई जा रही है.

ट्रैकिंग क्लस्टर के रूप में विकसिंग होंगे

योजना के तहत पर्यटन विभाग आस-पास के गांवों को ट्रैकिंग क्लस्टर के रूप में विकसित करेगा. इसके तहत गांवों में स्थित पुराने मकानों में कमरों का ठीक किया जाएगा. भवन मालिकों को आर्थिक मदद दी जाएगी. इससे मकान मालिकों को रोजगार तो मिलेगा ही, यहां आने वाले यात्रियों को सुविधाएं मिल सकेंगी.

ट्रैकिंग क्लस्टर के विकास लिए जिला अधिकारी के नेतृत्व में एक समिति गठित की गई है, जो कि स्थानों का चयन करेगी

तुंगनाथ मंदिर का होगा जीर्णोद्वार

इसी रूट पर पड़ने वाले तुंगनाथ भगवान मंदिर की जीर्णोद्वार की भी योजना है. ऊंचाई पर स्थित तुगनाथ मंदिर काफी प्राचीन है. जिसके जीर्णोद्वार और सुविधाओं के विकास के लिए प्रयास किए जा रहे हैं.

एडवेंचर लवर्स के लिए पसंदीदा स्थान है तुंगनाथ

तुंगनाथ क्षेत्र एडवेंचर ट्रैकर्स के लिए पसंदीदा स्थान है. यहां कई निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं. ताकि यहां आने वाले पर्यटकों और श्रद्धालुओं को सुविधाएं मुहैया कराई जा सके. साथ ही स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा किए जा सकें. इस योजना के तहत गढ़वाल मंडल विकास निगम के पुराने बंगले का भी नवीनीकरण किया जाना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here