देश के बीच-ओ-बीच स्थित मध्य प्रदेश में ऐसे कितने ही पर्यटन स्थल है. जहां हर साल हजारों पर्यटक पहुंचते हैं. अगर आप भी मध्य प्रदेश की ट्रिप प्लान कर रहे हैं. तो आपको बताते हैं, कि आप किन जगहों पर जा सकते हैं

10. महाकालेश्वर मंदिर

उज्जैन में महाकालेश्वर बारह प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं. महाकालेश्वर मंदिर की महिमा का बखान पुराणों में मिलता है.

कैसे पहुंचें:
वायु मार्ग

निकटतम हवाई अड्डा देवी अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डा इंदौर है, इंदौर से कैब के जरिए यहां पहुंचा जा सकता है

अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डे के लिए दिल्ली, मुंबई, पुणे, जयपुर, हैदराबाद और भोपाल से नियमित उड़ानें उपलब्ध हैं.

ट्रेन

उज्जैन में रेलवे स्टेशन है. जहां के लिए सभी बड़े शहरों से ट्रेन उपलब्ध है.

सड़क मार्ग

उज्जैन सड़क मार्ग से सभी शहरों से जुड़ा हुआ है.

9. उप्पेर झील

उप्पेर झील या बड़ा तालाब, भोपाल में स्थित है. ये झील की देश की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील है. कहा जाता है, कि राजा भोज ने इस झील का निर्माण कराया था.

कैसे पहुंचें:
वायु मार्ग

भोपाल हवाई अड्डा सभी शहरों से जुड़ा हुआ है

ट्रेन

किसी भी शहर से भोपाल के लिए ट्रेन उपलब्ध हैं

सड़क मार्ग

भोपाल सभी शहरों से सड़क मार्ग के जरिए कनेक्ट है.

8. गणेश मंदिर खजराना

खजराना गणेश मंदिर इंदौर शहर में है. इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, यहां हर भक्त की मनोकामना पूरी होती, मंदिर की वास्तुकला देखने लायक है. हर साल यहां हजारों पर्यटक पहुंचते हैं

7. ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंगों में से एक है. ओंकारेश्वर मंदिर मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में स्थित है

6. बीईई फॉल्स

बीईई फॉल्स मध्य प्रदेश के पंचमढ़ी घाटी में स्थित है. बीईई फॉल्स की पंचमढ़ी शहर से दूरी कोई 3 किलोमीटर है. अगर आप घूमने की योजना बना रहे हैं, तो आप आसानी से हवाई, रेल या फिर सड़क मार्ग से पहुंच सकते हैं, यहां के लिए सभी उपलब्ध हैं

5. ग्वालियर फोर्ट

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में स्थित ग्वालियर किला वास्तुकला का अद्भुत नमूना है, जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है. इस किले को 10वी शताब्दी में बनवाया गया था. ग्वालियर शहर पहुंचने के लिए पर्यटकों ज्यादा मशक्कत करने की जरूरत नहीं. ग्वालियर देश के दूसरे हिस्सों से हवाई, रेल और सड़क मार्ग से अच्छी तरह कनेक्ट है.

4. कान्हा नेशनल पार्क

कान्हा नेशनल पार्क की स्थापना आजादी के कुछ साल बाद 1955 में हुई, नेशनल पार्क बालाघाट और मंडला जिले के बीच फैला हुआ है. जिसका क्षेत्रफल करीब 940 वर्ग किलोमीटर है. बालाघाट पहुंचने के लिए सबसे नजदीक बिरवा हवाई पट्टी है. ट्रेन के जरिए आप को पहले जबलपुर पहुंचना होगा. वहां से बालाघाट की ट्रेन पकड़ सकते हैं. सड़क मार्ग से बालाघाट के लिए नियमित बसें उपलब्ध हैं

3. मार्बल रॉक्स

मार्बल रॉक्स मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में है. जो कि देश के खूबसूरत प्राकृतिक स्थलों में से एक है. जबलपुर शहर से करीब 25 किलोमीटर दूर नर्मदा नदी के दोनों ओर स्थित ये मरमरी चट्टानें कहीं-कहीं तो 100 फुट ऊंची भी हैं. यहां पहुंचने के लिए आपको जबलपुर आना होगा. जहां से आप कैब या फिर सार्वजनिक परिवहन के जरिए मार्बल रॉक्स तक पहुंच सकते हैं

2. सांची स्तूप

सांची स्तूप की निर्माण तीसरी शताब्दी में सम्राट अशोक ने कराया था. ये एक बौद्ध स्मारक है, सांची स्तूप मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में स्थित है.

1. भेड़ा घाट

जबलपुर का भेड़ाघाट संगमरमरी वादियों से घिरा है, जिसके दृश्य आपकों कई फिल्मों में दिखाई देते हैं. संगमरमरी चट्टानों के बीच से निकलता झरता पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देता है. जबलपुर शहर से भेड़ा घाट की दूरी 15 किमी. है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here