बर्फ से ढकी चोटियां, चारो ओर हरे-भरे खेत, हरियाली, पहाड़ों पर घूमती टेढ़ी-मेढ़ी सड़कें. अगर आप ये सब देखना चाहता है. एहसास करना चाहते हैं, तो आपकी तलाश एक ही जगह जाकर खत्म होती, धर्मशाला.

पहाड़ों के बीच बसा हिमाचल प्रदेश का खूबसूरत शहर, जहां तक नज़र जाए, हिमालय पर्वत श्रंखला की ऊंची-नीची चोटियां और उन पर पिघल चुकी बर्फ के निशां नज़र आएं. चट्टानों पर खड़े चीड़, और देवदार के हरे भरे पेड़ और उनके बीच से गुजरते रास्ते आपके सफर और भी खूबसूरत बना देते हैं.

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश का एक बेहद खूबसूरत हिल स्टेशन है, धर्मशाला में तिब्बत के धार्मिक गुरु दलाई लामा रहते हैं, यहीं दुनिया का सबसे ऊंचा और खूबसूरती से घिरा हुआ क्रिकेट स्टेडियम भी यहीं है.

धर्मशाला में आपको ऊंचे ऊंचे पाइन के पेड़, चाय के बागान और इमारती लकड़ी के वृक्ष आदि दूर दूर तक शांति से खड़े नज़र आएंगे.

धर्मशाला में कई ऐतिहासिक इमारतें हैं, कई पौराणिक स्थल, इन्हीं मे से एक है सेंट जॉन चर्च जिसे ‘लॉर्ड एल्गिन’ की याद में बनवाया गया था. जो कि धर्मशाला के दर्शनीय स्थलों में से एक है. यह चर्च पत्थरों से बना है और पर्यटकों को दूर से ही आकर्षित करता है.

मैक्लोडगंज में दिखती है तिब्बती संस्कृति की झलक

मुख्य धर्मशाला से ठीक ऊपर की ओर बसा है, मैक्लोडगंज, यहां तिब्तियों की कई बस्तियां है. यहां तिब्बती कलाकृतियों से लेकर तिब्बती शैली कई वस्तुएं मिल जाएंगी, यहीं स्थित है महात्मा बुद्ध का एक बड़ा मठ, तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा मैक्लोडगंज में ही रहते हैं.

धर्मशाला में भी एक डल झील

आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे, कि कश्मीर की तरह एक डल झील धर्मशाला में भी है. ये झील पर्यटन के आनंद को और बढ़ा देती है.

इसके अलावा धर्मकोट, चामुंडा देवी मंदिर, भगसूनाथ, त्रियूंड जैसे अनगिनत स्थान है. जो देखने लायक है.

कैसे पहुंचे

हवाई सेवा –
धर्मशाला का निकटतम हवाई अड्डा गग्गल है जो यहां से 15 किलोमीटर दूर है.

रेल
धर्मशाला के पास कांगड़ा रेलवे स्टेशन है, जो कि यहां से 22 किलोमीटर दूर है

सड़क
सड़क के जरिए आसानी से धर्मशाला पहुंचा जा सकता है, यहां से आस-पास के सभी शहरों के बस सेवा उपलब्ध है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here